Saturday, October 30, 2010

अच्छा आँखे तेज कर रही है...



कभी सुना है आपने किसी छोटे से बच्चे द्वारा यह कहते हुऎ अच्छा...आँखे तेज कर रही है... सुबह-सुबह गॉर्डन मे चक्कर लगाते हुए, मै घास को बड़े ध्यान से देख रही थी। मेरे पति मुझसे कुछ दूर पर अपनी नित्य की तरह दौड़ लगा रहे थे। अचानक एक छोटा सा बच्चा जो शायद दस या ग्यारह साल का ही होगा अपने साथ आये हुए बड़े लड़के से मेरी ओर इशारा करते हुए बोला अच्छा आँखें तेज कर रही है... उसकी बात सुन कर कुछ क्षण के लिये मुझे कुछ समझ नही आया मै कुछ कहती इतने पर ही मेरे पति उसके पास आये और बोले," अभी करवाऊँ क्या तेरी भी आँखें तेज? उसका तो हाल बुरा हो गया। और मै असमंजस में पड़ गई कि कोई नन्हा सा बच्चा जो यह जानता है कि मै उसकी माँ की उम्र की हूँ, कैसे ऎसा बोल सकता है?

किन्तु यही सत्य है। दिशाविहीन बच्चे सचमुच भूल गये हैं कि माँ एक ही नही होती और वो सिर्फ़ एक की ही संतान नही हैं। आपने सुना तो होगा कि बच्चे सबके साँझे होते हैं। बच्चों में भगवान का निवास होता है। हम हमारे बच्चों के समान ही सभी बच्चों को देखते हैं। किन्तु यह सब क्या था?

क्या यह बदलते परिवेश का झटका था? या माता-पिता के संस्कार? इसे क्या कहेंगे कि एक बच्चा यह नही जानता की मै किसे क्या कह रहा हूँ। हो सकता है मै गलत हूँ क्योंकि जिस प्रकार वक्त बदला है जीने का नजरिया बदला है, शिक्षा बदली है, बच्चे यह भी जान गये की आँखें तेज करना क्या होता है।

यकीन मानिये आज अहोई अष्टमी के दिन जब अहोई माँ से सारी दुनिया के बच्चों के स्वास्थ्य की प्रार्थना की तो जरा भी ख्याल नही आया की मै बस अपने बच्चों के लिये कुछ माँगू। परन्तु यह वाकया अवश्य याद आ गया। और पूजा करते-करते मुझे उसकी बेवकूफ़ी पर हँसी आ गई। मैने चाहा की अपनी यह हँसी आप के साथ भी बाँट ही ली जाये। कहीं आप भी तो गार्डन में आँखे तेज करने का काम नही करते हैं?

नीलकमल

24 comments:

  1. अफसोस होता है ऐसे भटकते बचपन को देख...

    ReplyDelete
  2. बचपन जब भटकता है तो ....

    ReplyDelete
  3. बच्चे तो बच्चे हैं उनकी बात का क्या बुरा मानना -उन्हें दुलार से सही गलत समझा दीजिये बस ..उनमें विवेक कहाँ ?

    ReplyDelete
  4. ये बच्चे भी ना...।

    ReplyDelete
  5. lokatantr ka kamal burha kya, bachcha kya, jawan kya sab barabar ~

    ReplyDelete
  6. इस में कुछ माँ बाप के संस्कार भी सामिल हैं| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  7. वैसे शायद उसको पता हो कि घास पर सुबह ओस के ऊपर बिना चप्पल के चलने से आँखों की रोशनी तेज होती है .... और यही वो बच्चा कहना चाहता हो ....

    ReplyDelete
  8. ये ति गंभीर मामला है।
    पर हमने यह सुना है कि सुबह ओस से भींगी घास पर चलने से नेत्रज्योति बढती है (आंख तेज़ होती है!!!...) लो अभी देख रहा हूं संगीता जी भी यही कह गई हैं, अब लिख दिया है तो पोस्ट तो कर ही दूं।

    ReplyDelete
  9. संगीता जी और मनोज जी ने बिल्कुल सही कहा...
    अब माफ़ भी कर दीजिये उन्हें...
    मेरे ब्लॉग पर इस बार चर्चा है जरूर आएँ...लानत है ऐसे लोगों पर ....

    ReplyDelete
  10. hansi baant kar accha kiya...
    bachpan to jaise kho sa gaya hai,
    ab log sare daanv pech seekh seedhe bade hi ho jate hain!

    ReplyDelete
  11. इससे पूर्व भी एक ऐसा ही लेख ब्लॉग पर था जिसका शीर्षक पड़कर यकीं नहीं हो रहा था परन्तु लगता है की सही था नीलकमल जी बच्चे जो भी सीखते है उसमे आस पास का माहोल और पारिवारिक परिवेश मुख्य होता है यदि हमारी या हमारे समाज की आने वाले कल और इन बच्चो के प्रति इसी तरह की पेशकश है तो ये सोचनीय विषय है !

    ReplyDelete
  12. bahut hee dukhad.. aise bhatke bacchey .. kya kiya jaye... yah sochniy baat hai..

    ReplyDelete
  13. दीपावली की बहुत बहुत शुभकामनाये !कभी यहाँ भी पधारे ...कहना तो पड़ेगा ................

    ReplyDelete
  14. दीपावली के इस पावन पर्व पर आप सभी को सहृदय ढेर सारी शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  15. बहुत कुछ सोचने -समझने को विवश करती हुई, पोस्ट
    दीपावली की बहुत बहुत शुभकामनाये

    ReplyDelete
  16. बदलते परिवेश मैं,
    निरंतर ख़त्म होते नैतिक मूल्यों के बीच,
    कोई तो है जो हमें जीवित रखे है ,
    जूझने के लिए प्रेरित किये है,
    उसी प्रकाश पुंज की जीवन ज्योति,
    हमारे ह्रदय मे सदैव दैदीप्यमान होती रहे,
    यही शुभकामना!!
    दीप उत्सव की बधाई...........

    ReplyDelete
  17. मैं मनोज जी और संगीता स्वरुप जी की बात से सहमत. सवेरे ओस से भीगी घास पर नंगे पाँव चलने से आँख की रोशनी बढ़ती है.लगता है,बच्चा आपसे ग़लत डांट खा गया

    ReplyDelete
  18. आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा. हिंदी लेखन को बढ़ावा देने के लिए आपका आभार. आपका ब्लॉग दिनोदिन आप अवश्य पधारें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "फालोवर" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . आपकी प्रतीक्षा में ....
    भारतीय ब्लॉग लेखक मंच
    danke ki chot par

    ReplyDelete
  19. नववर्ष की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  20. बच्चे तो बच्चे -ईश्वर का रूप!

    ReplyDelete
  21. Looking to publish Online Books, in Ebook and paperback version, publish book with best
    free Ebook publisher India|ISBN for self Publisher

    ReplyDelete

स्वागत है आपका...